एईआरबी का लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि भारत में आयनीकारक विकिरण तथा नाभिकीय ऊर्जा के कारण लोगों के स्वास्थ्य एवं पर्यावरण को किसी भी प्रकार का अवांछित जोखिम न हो ।

गणमान्य व्यक्तियों का दौरा


आईएईए के महानिदेशक श्री यूकिया अमानो, कैबिनेट प्रमुख श्री राफेल क्रॉसी तथा निदेशक, अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी के बाह्य संबंध एवं नीति समन्वयक श्री एस.अकबरुद्दीन ने डॉ.बल्देव राज, निदेशक, आईजीसीएआर तथा परमाणु ऊर्जा विभाग के अन्य वरिष्ठ कार्मिकों के साथ दिनांक 18 जनवरी 2011 को संरक्षा अनुसंधान संस्थान का दौरा किया । महानिदेशक ने संस्थान की गतिविधियों में गहन रुचि दिखाई तथा परमाणु संयंत्रों के भूकंपीय मूल्यांकन पर शोध के संबंध में विशिष्ट जानकारी प्राप्त की ।



नाभिकीय संरक्षा, रॉयल टेक्नोलॉजी (केटीएच), स्वीडन के प्रो.बलराज सहगल, ने जनवरी 30-31, 2012 के दौरान संस्थान का दौरा किया।



डॉ.एम.आर.श्रीनिवासन, पूर्व अध्यक्ष, परमाणु ऊर्जा आयोग तथा वर्तमान सदस्य, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बोर्ड ने संरक्षा अनुसंधान संस्थान, कल्पाक्कम का दौरा किया।


डॉ.आर चिदंबरम, पूर्व अध्यक्ष, परमाणु ऊर्जा आयोग एवं वर्तमान प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार, भारत सरकार ने संरक्षा अनुसंधान संस्थान, कल्पाक्कम का दौरा किया ।

विजिटर काउण्ट: 1461934

Last updated date:

Color switch

 

अक्सर देखे गए

कार्यालय का पता

परमाणु ऊर्जा नियामक परिषद, नियामक भवन अणुशक्तिनगर,, मुंबई 400094, भारत,

कार्य का समय
9:15 से 17:45 – सोमवार से शुक्रवार

वर्ष के सार्वजनिक अवकाशों की सूची